SONAR Full form in Hindi | सोनार क्या है – SONAR in Hindi

क्या आपको पता है समुद्र की गहराई क्या है, कोन सा पॉइंट समुद्र का सबसे गहरा है, आप में से बहुत से लोगो को पता होगा लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा की समुद्र की गहराई कैसे नापी जाती है। नेवी बालों को दुश्मन सबमरीन का कैसे पता लग जाता है। प्रश्न बहुत सारे है लेकिन सब का उतर एक है SONAR, लेकिन अब ये सोनार क्या है, सोनार कैसे काम करता है SONAR ka full form kya hai (SONAR Full form in Hindi)।

सोनार एक नेविगेशन और रेंजिंग सिस्टम है ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार एक RADAR और Lidar है। अगर आप RADAR और LIDAR के बारे में नहीं जानते तो आप इनके बारे में हमारे ब्लॉगपोस्ट में पढ़ सकते है, मैंने इनके बारे में काई बिस्तर से जानकारी दी हुई है। लेकिन इस आर्टिकल में हम SONAR के बारे में जानने बाले है।

SONAR Full form in Hindi – SONAR in Hindi

SONAR full form:- Sound Navigation And Ranging

सोनार क्या है – SONAR in HindiSONAR Full form in hindi सोनारा क्या है

सोनार का अर्थ है Sound Navigation And Ranging होता है और सोनार एक ऐसी तक्नीक है जो साउंड वेव्स का इस्तेमाल करके समुद्र की गहराई, और समुन्द्र के अंदर की बस्तुओं का पता लगा सकते है, हम इससे यह भी जान सकते है वह वस्तु कितनी दूर और कितनी बड़ी है।

साउंड वेव्स एयर के मुकाबले पानी में बहुत तेज ट्रैवल करती है, सोनार का उसे करते हुए हम रियल टाइम ऑब्जेक्ट की पोजीशन का पता लगा सकते है। इसलिए Nevi इसका इस्तेमाल अपने विभिन्न कार्य करते है। समुद्र के अंदर Nevi के लिए यह कम्युनिकेशन करने का प्रमुख साधन होता है।

Read Also:

Sonar की खोज किसने की थी
Sonar की खोज Reginald फेस्सेंदें ने की थी।

सोनार कैसे काम करता है:-

सोनार एक पूरा सिस्टम होता है जैसे की एक राडार का होता है। सोनार सिस्टम से साउंड एमिट की जाती है, जो पानी में ट्रेवल करती हुई किसी बस्तु या सरफेस से टकराती है और इको लोटती है और सोनार सिस्टम तक वह सिग्नल पहुँचते ही सोनार उसको एनालाइसिस करता है और इसकी जानकारी देता है। जिससे हमें यह पता चल जाता है जी रस्ते में कुछ है या नहीं या समुद्र तल की कितनी दुरी है।

सोनार कितने प्रकार के होते है

सोनार दो प्रकार के होते है active sonar और Passive sonar

  1. Active Sonar : Active Sonar ट्रांसड्यूसर पानी में ध्वनिक संकेत या ध्वनि की नब्ज का उत्सर्जन करते हैं। यदि कोई ऑब्जेक्ट ध्वनि पल्स के मार्ग में है, तो ध्वनि ऑब्जेक्ट को बंद कर देती है और सोनार ट्रांसजेंडर को “इको” लौटा देती है। यदि ट्रांसड्यूसर सिग्नल प्राप्त करने की क्षमता से लैस है, तो यह सिग्नल की ताकत को मापता है। ध्वनि पल्स के उत्सर्जन और इसके रिसेप्शन के बीच के समय का निर्धारण करके, ट्रांसड्यूसर ऑब्जेक्ट की सीमा और अभिविन्यास निर्धारित कर सकता है।
  2. Passive Sonar: Passive Sonar प्रणालियों का उपयोग मुख्य रूप से समुद्री वस्तुओं (जैसे पनडुब्बी या जहाज) और व्हेल जैसे समुद्री जानवरों के शोर का पता लगाने के लिए किया जाता है। सक्रिय सोनार के विपरीत, निष्क्रिय सोनार अपने स्वयं के सिग्नल का उत्सर्जन नहीं करता है, जो कि सैन्य जहाजों के लिए एक फायदा है जो कि नहीं मिलना चाहते हैं या वैज्ञानिक मिशनों के लिए जो चुपचाप “सुनने” पर ध्यान केंद्रित करते हैं। बल्कि यह केवल ध्वनि तरंगों का पता लगाता है। निष्क्रिय सोनार किसी वस्तु की श्रेणी को तब तक नहीं माप सकता जब तक कि इसे अन्य निष्क्रिय श्रवण उपकरणों के साथ प्रयोग नहीं किया जाता है। एकाधिक निष्क्रिय सोनार उपकरण ध्वनि स्रोत के त्रिकोणासन की अनुमति दे सकते हैं।

सोनार को लेकर अक्सर पूछे जाने बाले सवाल

क्या सोनार इंसानों को मार सकता है?

यदि आप काफी करीब हैं तो हां, यह आपको मार सकता है। अमेरिकी नौसेना के सोनार ने 235-डेसिबल दबाव तरंगों को असहनीय पिंगिंग और धातु के चीरने का उत्सर्जन किया। 200 डीबी पर, कंपन आपके फेफड़ों को फट सकता है, और 210 डीबी से ऊपर, घातक शोर आपके मस्तिष्क के माध्यम से सीधे ऊब सकता है जब तक कि यह उस नाजुक ऊतक को रक्तस्राव न करे।

सोनार हानिकारक कैसा है?

एलएफए सोनार संभोग को बाधित करके, संचार को रोककर जानवरों को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिससे वे बछड़ों से अलग हो सकते हैं, और तनाव को भड़का सकते हैं। 180 डीबी से ऊपर की आवाज़ जानवरों की सुनवाई को बाधित कर सकती है और शारीरिक चोट पहुंचा सकती है।

क्या आज भी सोनार का उपयोग किया जाता है?

इसका इस्तेमाल पहली बार बीसवीं सदी में मुख्य रूप से पनडुब्बियों का पता लगाने के लिए किया गया था। आज, सोनार के समुद्री दुनिया के मानचित्रण से लेकर जहाज़ की खोज करने के लिए समुद्री दुनिया में कई उपयोग हैं। ध्वनि नेविगेशन और रेंजिंग के लिए सोनार छोटा है। हालांकि, यह पानी के नीचे की खोज में बहुत मददगार है और आज व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

सोनार का सिद्धांत क्या है?

सोनार गूँज के सिद्धांत पर काम करता है। एक मजबूत और छोटी (अल्ट्रासोनिक) ध्वनि संकेत महासागर के नीचे की ओर भेजा जाता है। इस संकेत की गूंज तब इसके द्वारा पता लगाया जाता है।

सोनार का उपयोग हवा में क्यों नहीं किया जाता है?

हवा की तुलना में ध्वनि पानी में बहुत तेजी से यात्रा करती है, इसलिए आप वास्तविक समय में दूरी पर चीजों को सुन सकते हैं। रेडियो की तुलना में ध्वनि के साथ डॉपलर प्रभाव को मापना भी आसान है। पानी के नीचे इस्तेमाल करने के लिए रडार अभी भी अव्यावहारिक है।

सोनार कितनी तेजी से यात्रा करता है?

सोनार ध्वनि की गति से संचालित होता है। पानी के नीचे, यह हवा के माध्यम से यात्रा करते समय लवणता, तापमान और दबाव के साथ भिन्न होता है, इसकी गति तापमान और आर्द्रता के साथ भिन्न होती है। खारे पानी में लगभग अनुमान 1500 मी / मी और हवा में 343 मी / से हैं।

उम्मीद है आपको सोनार के बारे में सभी जानकारी मिल गयी हो। SONAR Full form in Hindi | सोनारा क्या हैSONAR in Hindi |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here