NavIC kya hai ? NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai ?

“NavIC” भारत का एक नेविगेशन सिस्टम है, या आप ऐसा कह सकते है की यह इंडिया का GPS है। जीपीएस क्या है और यह कैसे काम करता है यह लगभग हम सभी को पता है। लेकिन हमे अपने NAVIC सिस्टम के बारे में पूरी जानकारी नहीं है ACTULE में NavIC kya hai ? NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai ? “NAVIC VS GPS” ऐसी बहुत सी बाते है जिसके बारे में हमे जानने की जरुरत है। लेकिन यह सब जानने से पहले हम यह जान लेते है की GPS के होते हुए हमे navic की जरुरत क्यों पड़ी।

Navigation system की जरुरत हर देश को बहुत से कामो के लिए होती है। इनमे से एक सबसे महत्वपूर्ण है देश की सुरक्षा के लिए इसका उपयोग। हमारे देश को भी इसकी जरुरत पड़ी थी कारगिल की लड़ाई के दौरान। आप सभी को मालुम होगा जब पाकिस्तान ने धोके से चोरी चपके कारगिल की पहाड़ी post पर कब्ज़ा कर लिया था तो भारत ने अमेरिका से GPS का एक्सेस माँगा ताकि हम पाकिस्तानी के रियल लोकेशन का सटीकता से पता लगा सके लेकिन अमेरिका ने इसकी अनुमति नहीं दी।

NavIC kya hai NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai

आम Public के लिए जो GPS का एक्सेस होता है वह थोड़ा पुराना और थोड़ा सा inaccurate होता है यह सेफ्टी purpose के लिए ऐसा किया होता है। लेकिन army के लिए 99.99% accurate or लेटेस्ट जानकारी उसमे होती है। अगर America इसका एक्सेस हमे दे देता तो वह युद्ध कुछ ही समय में समाप्त हो जाता और हमारे बहुत से जवान शहीद भी नहीं होते। इसी से प्रेरणा लेके और Navigation की importance को समझते हुए India के Research Organization ISRO ने इसके ऊपर काम करना शुरू कर दिया।

NAVIC KYA HAI – NAVIC MOBILE MEIN KAISE KAAM KARTA HAI :

NavIC kya hai:

नैविक (NavIC) का full form है Navigation Indian Constellation यह IRNSS का Operational नाम है। IRNSS की full form है Indian Regional Navigation Satellite SystemNAVIC (IRNSS) भारत द्वारा विकसित एक स्वतंत्र क्षेत्रीय नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम है। यह भारत में उपयोगकर्ताओं को सटीक स्थिति सूचना सेवा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है और Navic को विशेष रूप से भारत और आसपास के क्षेत्रों (भारत के आसपास 1500 किलोमीटर) पर ध्यान केंद्रित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है और यह देश के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

NavIC kya hai NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai 6

IRNSS दो प्रकार की सेवाएं प्रदान करेगा, अर्थात्, Standard Positioning Service (SPS) इसके अंतर्गत सभी उपयोगकर्ताओं के लिए इसकी सेवा Provide की जाएगी और Restricted Service (RS) यह एक Encrypted service होगी जो केबल Authorized users को ही provide की जाएगी जोकि Standard से ज्यादा accurate( in the range of 1 to 5 meters) होगी ।

NavIC में वर्तमान में 8 उपग्रह है – IRNSS-1A, IRNSS-1B, IRNSS-1C, IRNSS-1D, IRNSS-1E, IRNSS-1F, IRNSS-1G, IRNSS-1I शामिल हैं।

नैविक को 7 उपग्रह और 2 बैकअप उपग्रह शामिल करने थे, लेकिन पहले उपग्रह, IRNSS 1A की परमाणु घड़ी ने काम करना बंद कर दिया और दोषपूर्ण उपग्रह को बदलने के लिए IRNSS 1H का प्रक्षेपण विफल हो गया। IRNSS 1I ने बाद में IRNSS 1A को बदल दिया और navic setlite पूरा कर लिया। भविष्य में, ISRO NavIC को और बेहतर बनाने के लिए घर में विकसित परमाणु घड़ियों के साथ और अधिक उपग्रह को जोड़ेगा।

Read also:

NavIC mobile mein kaise kaam karta hai:

USER को इसे यूज़ करने के लिए Navic को सपोर्ट करने बाला फ़ोन लेना होगा । January, 2020, क्वालकॉम ने तीन मिड-रेंज स्मार्टफोन प्रोसेसर लॉन्च किए जो इस नई प्रणाली को सपोर्ट करेंगे। इनमें से एक Xiaomi और Realme के आने वाले फोन में होगा, जिसमें नई चिप के साथ NavIC सपोर्ट करेगा।

NavIC kya hai NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai

ये चिप्स dual-frequency – L1 (1।58 GHz) और L5 (1।17 GHz) – ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (GNGR) का सपोर्ट करते हैं। NavIC L5 बैंड S- बैंड (2।5 GHz) पर काम करता है। तो इन चिप्स को स्वचालित रूप से NavIC मानक का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

यह समझने के लिए कि आपका मौजूदा फ़ोन NavIC के साथ काम करेगा या नहीं, हमें यह समझने की ज़रूरत है कि जब स्मार्टफ़ोन दोहरी-आवृत्ति वाले GNSS का उपयोग करते हैं, तो वे मल्टी-पाथ एरर से बच सकते हैं, जो रेडियो तरंगों के कारण बाधाओं और सतहों को उछाल देते हैं और बदले में पोजिशनिंग डेटा में त्रुटि पैदा करते हैं।

आप जीपीएसटीईस्ट नामक एक निशुल्क एंड्रॉइड ऐप का उपयोग कर सकते हैं, यह जांचने के लिए कि क्या आपका फोन dual-frequency वाले जीएनएसएस का समर्थन करता है। कुछ अन्य चिप्स जैसे कि हुआवे क्रिन 990, क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 855, और स्नैपड्रैगन 855 डुअल-फ्रिक्वेंसी एनएसएस का समर्थन करते हैं। लेकिन फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि फोन निर्माता (या चिपमेकर) इस नेविगेशन सेवा के लिए समर्थन सक्षम करने के लिए फर्मवेयर को अपडेट कर सकते हैं या नहीं। हम अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए विभिन्न कंपनियों तक पहुंच गए हैं, और यदि हम वापस सुनते हैं तो हम कहानी को अपडेट करेंगे।

NavIC भारतीय भूभाग और इसके आसपास के लगभग 1,500 किमी के क्षेत्र को कवर करता है। तो, इसका मतलब है कि जहाजों और फिशरफोक इस डेटा का उपयोग अपनी स्थिति से अवगत होने के लिए कर सकते हैं। जटिल सड़क योजना और भीड़भाड़ वाली गलियों वाले देश में, यह ग्राहकों को अधिक कुशलता से पता लगाने के लिए डिलीवरी सेवाओं और राइड-हेलिंग एप्स की मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह बेहतर सटीकता के साथ एक जटिल क्षेत्र में स्थानों को इंगित कर सकता है।

GPS vs NavIC – NavIC or GPS में क्या अंतर है:

NavIC VS GPS

Satellites:

GPS: – US की सरकार के द्वारा बताये गए डाटा के अनुसार GPS के पास 33 satellites है। यह पुरानी satellite को समय के साथ रेप्लस कर रहा है और नयी सटेलिते जोड़ भी रहा है।

NavIC: NavIC में 7 उपग्रह हैं, इसमें भी इसरो और सेटलिटे जोड़ने की कोशी करेगें। यहां उपग्रहों की संख्या बहुत कम प्रतीत हो सकती है, लेकिन वे भारत के लिए exclusive हैं।

Coverage:

GPS जैसा कि नाम से पता चलता है कि ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है पुरे ग्लोब के लिए ।

NavIC केवल भारत और उसके पड़ोसी देशों में कार्य करता है। अगर रिपोर्टों पर विश्वास किया जाए, तो पड़ोसी देशों में सटीकता कहीं बेहतर है।

Accuracy:

जनता के लिए GPS की accuracy 20 मीटर है।

जनता के लिए भी NavIC की accuracy 20 मीटर है।

GPS और NavIC दोनों में आपको स्टैंडर्ड यूजर के लिए इसकी एक्सूरसी approx 20 meter होगी। हालाँकि दोनों की एक्यूरेसी को और जयदा बढ़ाया जा सकता है, cellular का यूज़ करके इसे लगभग 10 मीटर तक इसकी एक्यूरेसी को पहुँचाया जा सकता है।

उम्मीद है आपको NavIC kya hai? NavIC Mobile mein kaise kaam karta hai? NAVIC VS GPS  के बारे में काफी कुछ जानने को मिला होगा अगर आपके इसके बारे और कुछ जानना है तो आप इसके लिए कमेंट कर सकते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here