Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai

Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai: भारत में बहुत बड़े बड़े राजमार्ग बने हुए है जिस पर दिन प्रतिदिन वाहन की संख्या बढ़ती जा रही है। इस तरह वाहनों की बढ़ती संख्या के कारण टोल प्लाजा पर घंटों भर जाम लगा रहता है और सरकार को वाहनों की निगरानी रखने में भी मुश्किल हो रही है। इस समस्या को सुलझाने के लिए भारत सरकार ने एक बहुत अच्छा फैसला लिया है।

फास्टैग योजना इस योजना के तहत सीधे ही वाहन के मालिकों द्वारा टोल की राशि प्राप्त कर ली जाएगी। सरकार के इस फैसले से हमारा बहुत फायदा होगा क्योंकि हमें टोल पर बहुत देर तक लंबी लाइन की करतार में गाड़ी को रोकना पड़ता है और टोल राशि देनी होती है और चेंज न होने की वजह से भी परेशानी उठानी पड़ती है और हमारा समय भी बहुत बर्बाद होता है। इन सब परेशानी से बचने के लिए फास्टैग योजना बनाई गई है।

अब आपके मन में तरह तरह के सवाल आ रहे होंगे जैसे कि फास्टैग क्या है और ये कैसे काम करता है और इसे कैसे बनाते है इन सब सवालों की जानकारी आपको नीचे दी जा रही है। Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai

“Fastag kya hai” or “fastag kaise kaam karta hai”

फास्टैग ईलक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है। इसमें Redio Frequency Identification(RFID) का इस्तेमाल होता है।

यह एक चिप की तरह होता है फास्टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास पहुँचती है तो टोल प्लाजा पर एक सेंसर लगा होता है वो सेंसर आपकी गाड़ी के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को स्कैन कर लेता है और फास्टैग एकाउंट से शुल्क काट लेता है। और आपको रुकना भी नही पड़ता।

in this image shows how a fastag scaned in toll plaza

फास्टैग की वैधता 5 वर्ष की होती है मतलब 5 वर्ष बाद आपको दोबारा नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना पड़ेगा।

आप अपने फास्टैग को चेक या क्रेडिट-डेबिट कार्ड और एनईएफटी आरटीजीसी के जरीए रिचार्ज कर सकते है। इसमें कम से कम100 रुपए और अधिकतम 1 लाख तक का रिचार्ज कर सकते है।

फास्टैग कैसे बनायें?

अब आपने यह तो जान लिया Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai लेकिन अब आपको पता होना चाहिए की फास्टैग कैसे बनायें इसके लिए आपको फास्टैग बनाने के लिए गाड़ी की रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, गाड़ी के मालिक का पासपोर्ट साइज फ़ोटो, आईडी प्रूफ, और एड्रेस प्रूफ की जरूरत होती है और साथ में सभी डॉक्यूमेंट की ऑरिजनल कॉपी साथ में होना अनिवार्य होता है। आप इसे प्राप्त करने के लिए एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई कई बैंको में आवदेन कर सकते है ऑनलाइन और ऑफलाइन।

बैंक और एजेंसियां 200 रुपए फीस लेती है और इसके अलावा आपको सिक्योरटी फीस भी देनी होती है। यह फीस वाहन के हिसाब से अलग अलग होती है । जब आप अपना एकाउंट close करते है तब ये फीस आपको वापिस कर दी जाती है फास्टैग खरीदते समय आपको कम से कम आपको 100 रुपये का रिचार्ज करवाना होता है।

toll plaza fastag line

फास्ट टैग कान्ह से बनबायें : – (Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai)

  • BANK:- फास्ट टैग कार्ड प्राप्त करने के लिए भारत सरकार द्वारा लगभग २० से अधिक बैंकों की एक लंबी सूची जारी की गई है जिनके जरिए आप फास्ट टैग कार्ड आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।
S. No. Issuing Bank Customer Care Helpline No.
1 Axis Bank 1800-419-8585
2 ICICI Bank 1800-2100-104
3 IDFC Bank 1800-266-9970
4 State Bank of India 1800-11-0018
5 HDFC Bank 1800-120-1243
6 Karur Vysya Bank 1800-102-1916
7 EQUITAS Small Finance Bank 1800-419-1996
8 PayTM Payments Bank Ltd 1800-102-6480
9 Kotak Mahindra Bank 1800-419-6606
10 Syndicate Bank 1800-425-0585
11 Federal Bank 1800-266-9520
12 South Indian Bank 1800-425-1809
13 Punjab National Bank 080-67295310
14 Punjab & Maharashtra Co-op Bank 1800-223-993
15 Saraswat Bank 1800-266-9545
16 Fino Payments Bank 1860-266-3466
17 City Union Bank 1800-2587200
18 Bank of Baroda 1800-1034568
19 IndusInd Bank 1860-5005004
20 Yes Bank 1800-1200
21 Union Bank 1800-222244
22 Nagpur Nagarik Sahakari Bank Ltd 1800-2667183
  • FASTAGE BOOTH:- वाहन चालक सीधा टोल केंद्रों पर जाकर अपना फास्ट टैग कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। आपको लगभग सभी TOLL PLAZA में फास्टगे बूथ लगा मिल जायेगा बांह पर आप अपने जरुरी दास्ताब्ज जमा करवा के फास्टैग प्राप्त कर सकते है।
  • ONLINE:- फास्टगे कार्ड को आप घर बैठे ही ऑनलाइन ऐमज़ॉन,PAYTM आदि से मगवा सकते हो और कार्ड कुर्रिएर के थ्रू घर पर आ जायेगा।  

फ़ास्ट टैग कार्ड जारी करने के लिए देय राशि

टैग प्राप्त करने की राशि 100 रुपये
सिक्योरिटी के लिए जमा राशि( वापिसी योगय) 200 रुपये
टैग कार्ड वॉलेट प्राप्त करने के लिए राशि 100 रुपये
अधिकतम मासिक वॉलेट लागू राशि 20,000 रुपये
फ़ास्ट टैग कार्ड में अधिकतम मौजूद राशि ( सीमित kyc के साथ) 20,000 रुपये
फ़ास्ट टैग कार्ड में अधिकतम मौजूद राशि ( पूर्ण kyc के साथ) 1 लाख रुपये

कब से गाड़ियों में फ़ास्ट टैग लगवाना आवश्यक होगा ?

15 दिसंबर 2019 से सभी गाड़ियों पर फास्ट टैग होना आवश्यक है, इसलिए राष्ट्रीय राजमार्ग एवं सड़क परिवहन ने 15 दिसंबर 2019 से सभी प्रकार की चार पहियों की गाड़ियों को फास्ट टैग की सुविधा से लैस होने का सख्त आदेश जारी किया है।

और यह सुनिश्चित किया है कि 1 दिसंबर 2019 के बाद बिकने वाली सभी चार पहियों वाली गाड़ियों को फास्ट टैग लगवाने के बाद ही कस्टमर को गाडी डिलीवर की जाएगी। Fastag kya hai or fastag kaise kaam karta hai.

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here